Home Abul Kalam Azad Poetry मंज़िल की तरफ़ रुख़ बेशक़ है,यूँ आग न लेकर चला करो, इक गाम लरज़ जाएगा और फिर आग तुम्ह…