Home Abul Kalam Azad Poetry मत जाओ कान्हा अभी….दो पल रूक जाओ जरा…. तुमको देखकर मन अभी भरा भी नहीं… मीर…